Categories
History in Hindi

अंग्रेजों का शासन जानकारी-British government information

जब हम भारत की इतिहास की बात करते हैं. तो बात कुछ अंग्रेजों कि समय पर आ कर रुक जाती है.अंग्रेजों का शासन जानकारी-British government information)श

कुछ लोग थोड़ा ज्यादा जानने की कोशिश करते हैं। तो उनको भारत के मुस्लिम शासन तक की ही जानकारी मिल पाती है.

असल में भारत के सच्चे इतिहास को हमारी पुस्तको से हटा दिया गया है।

और किताबों में जो लिखा गया है वह सिर्फ और सिर्फ मुस्लिम शासन के बारे में है।
और अंग्रेजी लुटेरों तक ही सीमित है।

भारत के कुछ इतिहास की बातें जो शायद आपने नहीं पढ़ा होगा। इसको पढ़ना आपके लिए बेहद जरूरी है।

आज हम जानेंगे भारत को सोने की चिड़िया क्यों कहा जाता था। और भी कई बातें जो साबित करती है भारत हजारों साल पहले विश्व गुरु था।

hello Dosto Mein Mubarak

आप सभी को स्वागत करता हू अमैज़ी कॉम पर
भारत व्यापार में सबका बाप था। सन 1840 तक का भारत जो था। विश्व व्यापार में इसका हीस्सा 33% था।

से पहले जब मुस्लिम आए थे।तो भारत मासालो का विश्व में सबसे बड़ा निर्यातक था।

दुनिया के कुल उत्पादन का 43% प्रतिशत भारत में पैदा होता है। और दुनिया की कुल कमाई में भारत का हिस्सा 27% था।

यह बात अंग्रेजों को काफी बुरी लगी थी।
और वह व्यपार करते हुए भारत पर राज करने की नीति अपनाने लगे।

और भारत के राजाओं में आपस में फुट डालने के कार्य शुरू कर दिया। और राजनीति करना शुरु कर दिया। जीस से अंग्रेज़ो ने धीरे धीरे अपना धाग जमा लिया ‌। और कई तरह के टैक्स भारत पर लगाया।

अंग्रेजों ने सबसे पहला कानून बनाया सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी ऐक्ट और टैक्स तैए कीया गया 350%मतलब 100 रूप का उत्पादन होगा तो 350रु एक्साइज ड्यूटी देने होंगे।

और फिर अंग्रेजों ने सामान बेचने पर सेल टैक्स लगाया और वह तैए किया गया 120% मतलब 100रु का माल बेचो तो 120रू cat दो।

और फिर एक और टैक्स आया इनकम टैक्स और वह था 97%मतलब 100रू कमाया तो 97 रू अंग्रेजों को दो। इस तरह से अंग्रेजों के आगमन से पहले भारत को सोने की चिड़िया काहा जाता था।

यह भारत का वह इतिहास है जो लोगों को इसलिए पता नहीं है । की वह किताबों में है ही नहीं।

हिंदुस्तान पर ब्रिटिश गवर्नमेंट और उसकी हुकूमत