Categories
Education

अपनी धन दौलत कैसे बढ़ाएं|grow business|How to Raise Your Wealth in hindi

अपनी धन दौलत कैसे बढ़ाएं|grow business|How to Raise Your Wealth in hindi

ह़ज़रत मूसा अलैहीस्सलाम कोहे तूर की तरफ जा रहे थे एक शख्स आया और अर्ज़ करने लगा ऐ अल्लाह से बात करने वाले प्यारे नबी,कहा जारहे हैं ह़ज़रत मूसा अलैहीस्सलाम ने कहा कोहे तूर की तरफ अल्लाह से कलाम करने के लिए.

उस शख्स ने कहा ऐ मूसा हमारे पास बहुत माल है.भेड़ सोना ज़मीन मैं संभाल नहीं सकता,आप अल्लाह से कहें के मेरा थोड़ा माल कम हो जाए. ताकि मैं संभाल सकूं.

ह़ज़रत मूसा अलैहीस्सलाम मुस्कुरा कर कहने लगे मैं तुम्हारा अर्ज़ अल्लाह के दरबार में पेश करूंगा.
थोड़ा आगे गए एक शख्स और मिला उसके चेहरे पर मिट्टी लगी हुई थी,लिबास फटा हुआ था,बे यार मददगार बैठा हुआ था,उसने कहा मूसा कहां जा रहे हैं, मूसा अलैहिस्सलाम ने कहा अल्लाह का कलाम करने.

उसने कहा ऐ मूसा अल्लाह के पास जा रहे हो तो अल्लाह से कहना थोड़ा मुझ पर भी तवज्जो दें. थोड़ा मुझे भी माले दुनिया आता करें मैं फाके काट काट के थक गया हूं.

मूसा अलैहिस्सलाम ने कहा मैं तुम्हारा अर्ज़ ज़रूर दरबारे खुदावंद में पेश करूंगा, मूसा चले जब अल्लाह से हम कलाम हुए,
तो अल्लाह दिलों के बाद जनता है,अल्लाह ने कहा मूसा जिस बंदे के पास माले दुनिया बहुत है,
वह मेरा शुक्र बहुत करता है,और ये कैसे हो सकता जो इंसान मेरा शुक्र करे और मै उसका नेमतें न बढ़ाऊं.
उस से कहो को मेरा शुक्र करना कम कर दे मैं उसका नेमतें कम कर दूंगा.

और जिसके पास माले दुनिया कम है.वह मेरा शुक्र नहीं करता.
उससे कहो माले दुनिया नहीं है,तो क्या हुआ अल्लाह ने उसे आंखें तो दी है.
अल्लाह ने उसे कान तो दिए हैं, वोह अपने निगाहों से नहीं बल्कि किसी और की निगाहों से खुद को देखें.
और शुक्र करना शुरू कर दें मैं उसकी नेमतें बढ़ा दूंगा.

फिर मूसा अलैहीस्सलाम ज़मीन की तरफ आए पहले उस शख्स से मिला जिसके पास दुनिया में माल दौलत बहुत थे.
मूसा ने कहा अल्लाह फरमाते हैं.
वह मेरा शुक्र बहुत करता है.
अगर वह मेरा शुक्र करना कम कर दे तो मैं उसका नेमतें कम कर दूंगा.
उस शख्स ने कहा ऐ मूसा यह कैसे हो सकता है, की जिस अल्लाह ने मुझे इंसान बनाया आंखें दी ज़ुबान दिए,कान दिए, हाथ व पैर सलामत किए.

जिसने ज़माने में इज़्ज़त दी मालदार बनाया मैं उसका शुक्र कम कर दुं.
माल बढ़े या कम हो मैं कभी उस का शुक्र कम नहीं करूंगा.
ह़ज़रत मूसा अलैहीस्सलाम ने कहा,जाओ फिर तुम्हारा माल भी कभी कम नहीं होगा.

थोड़ा सा आगे बढ़े वह शख्स मिला जो लाचार और मुफलिस था.उसने पूछा मूसा अल्लाह से पूछा?
ह़ज़रत मूसा अलैहीस्सलाम ने कहा अल्लाह कहता है वह मेरा शुक्र नहीं करता.अगर तूम शुक्र करो अल्लाह तुम्हारा नेमतें बढ़ा देगा.
उसने कहा मेरे पास दौलत नहीं.
नहीं अच्छा लिबास है, इस पर मैं क्या शुक्र करूं. फटे हुए कपड़ों के साथ भी कोई शुक्र करता है क्या?

ह़ज़रत मूसा अलैहीस्सलाम ने कहा ऐ कमबख्त तू अपने निगाहों से नहीं बल्कि किसी दूसरे की निगाहों से देख?
अल्लाह ने तुझे आंखे दी है जिससे तु सारी दुनिया देखता है.तुझे ज़ुबान दी है जिससे तू बोलता है. तुझे कान दिएं है जिससे तू सुनता है.
अल्लाह ने तुझे हाथ दिए हैं जिससे तू सब चीजों को उठाता है.
तुझे पैर दिए हैं जिससे तो चलता है.
क्या यह नेमतें कम है?
तू इस पर अल्लाह का शुक्र कर अल्लाह तुझे वह भी दे देगा जो तू चाहता है.
उसने कहा नहीं जब तक मुझे दौलत नहीं मिलेगा मैं शुक्र नहीं करूंगा.ह़ज़रत मूसा अलैहीस्सलाम ने कहा तो बस तुम्हारी नेमतें भी कभी नहीं बढ़ेगी.

यह लेख अच्छा लगा तो लाइक शेयर कमेंट जरुर करें.