History in Hindi

किसान और व्यापारी की कहानी in Hindi

किसान और व्यापारी की कहानी
किसान और व्यापारी की कहानी

एक किसान एक व्यापारी को डेली एक किलो मक्खन बेचता था।
एक दिन व्यापारी ने उस मक्खन को परखने के लिए तौल कर देख लिया कि वह मक्खन एक किलो है कि नहीं है। और वह मक्खन एक किलो नहीं निकला।

इस बात पर व्यापारी किसान को अदालत ले गया। अदालत में जज ने किसान से पूछा तुम किस बाट का इस्तेमाल करते हो, तो किसान ने कहा माय बाप मैं तो अनपढ़ हूं मैं कोई बाट का इस्तेमाल नहीं करता, लेकिन मेरे पास एक तराजू है तैलने के लिए, तो जज ने कहा भाई तुम तोलते कैसे हो?

तो किसान ने कहा यह तो अब मुझ से मक्खन खरीद रहा है, मैं तो कब से इससे एक किलो ब्रेड खरीद रहा हूं, और उसी एक किलो ब्रेड को तराजू के एक पल्ले में डालकर मक्खन तौलकर इसे देता हूं।
अब आप तो समझ गए होंगे कि गलती किसकी है।

सबक: जैसा बोओगे पाओगे वैसा ही।

One Comment