Categories
Relationships

प्यार को अपनी ताक़त बनाओ कमज़ोरी नही| Make love your strength, not weakness,in hindi.

प्यार को अपनी ताक़त बनाओ कमज़ोरी नही|
Make love your strength, not weakness,in hindi.

इमाम अली रज़ी अल्लाह ताअला अन्हु के दरबार में एक शख्स आया और उस करने लगा,
या अली
मेरे दिल को सुकून नहीं मैं जिससे प्यार करता हूं. वह मेरा क़दर नहीं करती,इज़्ज़त नहीं करती.
बस…
यह कहना था तो इमाम अली इब्ने अबी तालिब रज़ी अल्लाह ताअला अन्हु ने कहा, “ऐ शख्स तुम अपने प्यार को ताकत बनाओ कमजोरी नहीं” याद रखो इस ज़मीन पर सिर्फ तीन किस्म के लोग रहते हैं.
एक वह जो अल्लाह से इश्क करते हैं.जो नबी बन गए,वली बन गए,आरिफ बन गए,उन्होंने अपनी आखरत संवारी और ज़माना उन्हें आज भी याद करता है.
दूसरा वह जिन्होंने अपने आप से इश्क़ किया, अपने काम से इश्क़ किया,तो उन्होंने सिर्फ अपनी दुनिया संवार ली भले उनका आखरत में कोई मुकाम नहीं.
लेकिन दुनिया वाले आज भी उन्हें याद करते हैं.
और तीसरे वह जो दुनिया के किसी चीज़ से इश्क़ करते हैं.किसी इंसान से इश्क़ करते हैं.देखो आदम अलैहीस्सलाम से लेकर आज तक जिस जिस ने किसी इंसान से इश्क़ किया,उसको बदले में सिर्फ तकलीफें मिली है,और दुख मिली है.
क्योंकि इस दुनिया का मतलब है. “वह औरत जो किसी भी मर्द से वफ़ा न करें”
इस दुनिया से वफा की उम्मीद रखना सबसे बड़ी बेअक़ली है.
अब तुम इन्तखाब करो अपने इश्क़ से दुनिया और आखरत दोनों खरीदनी है.या आपनी इश्क़ से सिर्फ दुनिया खरीदनी है.या आपनी इश्क से सिर्फ दुख और तकलीफ खरीदनी है.
यह लेख अच्छा लगा तो लाइक शेयर कमेंट जरुर करें.
इसे भी पढ़ें:कोई ऐसा अमल है जिससे मैं आने वाले नुकसान से बच सकूं?How to avoid damage in hindi